-->

NEW UPDATE

GOOD NEWS:- GST rate on daily use items cut to 18% from highest slab of 28%

Post a Comment

आम आदमी को बड़ी राहत: जीएसटी काउंसिल का फैसला, सस्ती हुईं रोजमर्रा की जरूरत वाली 177 चीजें

गुवाहाटी में लगातार दो दिन चली जीएसटी काउंसिल की मीटिंग के बाद सरकार ने 28 फीसदी स्लैब में आने वाली वस्तुओं में अब सिर्फ 50 लग्जरी आइट्म को ही रखा है. इस हिसाब से करीब 177 वस्तुएं अब सिर्फ 18 फीसदी स्लैब वाला टैक्स लगेगा, जिनमें कई घरेलू वस्तुएं शैंपू, फर्नीचर, स्विच, प्लास्टिक पाइप जैसे आइट्म शामिल हैं.
Almost 227 items were there in 28% GST slab, now only 50 remain, which are mostly luxury items, rest have been put in 18%: Sushil Kumar Modi, Bihar Dy CM #GSTCouncilMeetpic.twitter.com/bjds4iVEJT
जीएसटी नेटवर्क समिति के अध्यक्ष सुशील मोदी ने बताया कि अब केवल 50 सामान ही 28 फीसदी टैक्स के दायरे में रह गए हैं, जिनमें से ज्यादातर लग्जरी सामान हैं. बाकी सभी 177 आइट्म को 18 प्रतिशत जीएसटी स्लैब में रखा गया है. वित्त मंत्री अरुण जेटली की अध्यक्षता में जीएसटी काउंसिल की मीटिंग चल रही है. यह मीटिंग असम के गुवाहाटी में हो रही है. जीएसटी काउंसिल की बैठक में 28 फीसदी जीएसटी दायरे में 80 वस्तुओं की जगह अब सिर्फ 50 आइटम ही रखे जाएंगे.

जीएसटी काउंसिल ने ऑफ्टर शेव, चॉकलेट्स, च्विंइग गम, डिओडरेंट, वॉशिंग पाउडर, डिटर्जेंट और मार्बल जैसे आइटम्स को 28 प्रतिशत के दायरे से घटा कर 18 प्रतिशत के दायरे में ला दिया है.
जीएसटी की तकनीक संबंधी गतिविधियों को मॉनिटर करने के लिए एक ग्रुप बनाया गया था. इस ग्रुप ऑफ मिनिस्टर्स में 5 सदस्य हैं, जिसके प्रमुख सुशील कुमार मोदी हैं. जीएसटी लागू होने के बाद से ही जरूरी उपयोग की वस्तुओं पर ज्यादा टैक्स वसूलने को लेकर सरकार की काफी आलोचना हो रही थी.
जिसके बाद सरकार द्वारा इन वस्तुओं पर टैक्स कम करने की उम्मीद पिछले कुछ समय से जताई जा रही थी. साथ ही उम्मीद की जा रही है कि बैठक में वित्त मंत्री जीएसटी दरों की खामियो के साथ ही आसान रिटर्न फाइलिंग और स्मॉल एंड मिडियम एंटरप्राइजेज को राहत देने का ऐलान करेंगे.
क्या-क्या हुआ सस्ता
साबुन
डिटरजेंट
हाथ घड़ी
ग्रेनाइट
मारबल
शैंपू
आफ्टर शेव
स्किन केयर
डियोड्रेंट
कैमरे
वॉलेट
शॉपिंग बैग
सूटकेस
च्युइंगम
चॉकलेट

Related Posts

There is no other posts in this category.

Post a Comment

Subscribe Our Newsletter
close